भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

श्वेत साईंक्लामें / रित्सुको कवाबाता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: रित्सुको कवाबाता  » श्वेत साईंक्लामें

श्वेत साईंक्लामें के फूल एक गमले में,
समर्पित मेरी बहन की आत्मा को
मेरे परम प्रिय मित्र की ओर से .
तने के छोर पर
एक कलिका
जैसे की चोंच शिशु पक्षी की .
ताकती है नीचे और
लगती है खिलने .
मार्च के महीने में
धूप भरे आँगन में
श्वेत साईंक्लामें के फूल
देखता है एक शिशु पक्षी
उड़ता ऊपर
लुकाट के पेड़ से .
काश में उगा पाती पंख !
आकाश में
उस पक्षी की तरह .
श्वेत साईंक्लामें का फूल
पसारता है अपनी पंखुडियां
और बस उड़ने जा रहा है

अनुवादक: मंजुला सक्सेना