भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

संकट / लैंग्स्टन ह्यूज़ / यादवेन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरा बूढ़ा बाप गोरा था
और मेरी बूढ़ी माँ काली
अगर मैंने कभी अपने गोरे पिता को कोसा हो
तो अपनी बद-दुआएँ वापिस लेता हूँ।

           अगर मैंने कभी अपनी बूढ़ी माँ को कोसा हो
           और चाह हो कि वह नरक में जाए
           तो मैं उस दुर्भावना के लिए शर्मिन्दा हूँ
           और अब उसका भला चाहता हूँ।

मेरा बूढ़ा बाप एक आलीशान महल में मरा
और मेरी माँ एक मड़ई में
समझ नहीं पाता कि मैं कहाँ मरूँगा
क्योंकि न तो मैं गोरा हूँ और न काला।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : यादवेन्द्र