भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

संसार एक इच्छा है / सविता सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अभी जिस हाल में हूँ
उसमें बची रह गई तो भी बच जाऊँगी
मगर बच्चों की आवाज़ें
कानों में पड़ रही हैं
अभी उनकी इच्छाएँ मुझसे बात कर रही हैं
उनकी ज़िद मुझमे प्राण भर रही हैं
वे जो चाहते हैं
उन्हें ले देने को वचनबद्ध हूँ
इसी हाल में ही तो यह संसार भी है
कामनाओं से उपजा
उसी में लिथड़ी
एक इच्छा

आज रात यदि सो सकी तो
दिन का प्रकाश दिखेगा ही
मैं भर जाऊँगी ख़ुद से
मैं घर से बहार निकल
सूर्य को धन्यवाद कहूँगी

अभी जिस हाल में हूँ
इसी में बची रही
तो बच जाऊँगी
अपने बच्चों के लिए
इस जगत के लिए ।