भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

सईयाँ जाई बसे हैं पुरुबी नगरिया / पवन कुमार मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सईयाँ जाई बसे हैं पुरुबी नगरिया,
मड़ईया के छवावे ननदी ।

घर में बाटी हम अकेली,
कउनो संगी ना सहेली

पापी पपिहा बोले बीचोबीच अटरिया
मड़ईया के छवावे ननदी ।

सईयाँ जाई बसे हैं पुरुबी नगरिया,
मड़ईया के छवावे ननदी ।

चारो ओर बदरिया छाई
हरियर आँगन मोर झुराई

कइसे गाई जाये सावन में कजरिया
मड़ईया के छवावे ननदी ।

सईयँ जाई बसे हैं पुरुबी नगरिया,
मड़ईया के छवावे ननदी ।

छानी छप्पर सब चूवेला
देहिया भींज भींज फूलेला

अगिया लागे तोहरी जुलुमी नोकरिया
मड़ईया के छवावे ननदी ।

सईयाँ जाई बसे हैं पुरुबी नगरिया,
मड़ईया के छवावे ननदी ।