भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सखि,कि पुछसि अनुभव मोय / विद्यापति

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सखि, कि पुछसि अनुभव मोय .
से हों पिरीति अनुराग बखानइत, तिल-तिले नूतन होय.
जनम-अवधि हम रूप निहारल,नयन न तिरपित भेल .
सेहो मधु बोल स्रवनहि सूनल, स्रुति-पथ परस न भेल .
कत मधु जामिनि रभसे गमाओल,न बुझल कइसन गेल.
लाख-लाख जुग हिये-हिये राखल,तइयो हिय जुड़न न गेल.
कत बिदग्ध जन रस अनुमोदइ, अनुभव काहु न पेख .
विद्यापति कह प्राण जुड़ाएत लाखे मिल न एक .