भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सखि हे हमर दुखक नहिं ओर / विद्यापति

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सखि हे हमर दुखक नहि ओर .
इ भर बादर माह भादर सून मंदिर मोर .
झम्पि घन गर्जन्ति संतत भुवन भर बरसंतिया.
कंत पाहुन काम दारुण सघन खर सर हंतिया .
कुलिस कत सत पात मुदित मयूर नाचत मतिया.
मत्त दादुर डाक डाहुक फाटी जायत छातिया .
तिमिर दिग भरि घोर जामिनि अथिर बिजुरिक पांतिया.
विद्यापति कह कइसे गमओब हरि बिना दिन -रातिया.