भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सखी री लाज बैरण भई / मीराबाई

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राग जौनपुरी

सखी री लाज बैरण भई।
श्रीलाल गोपालके संग काहें नाहिं गई॥

कठिन क्रूर अक्रूर आयो साज रथ कहं नई।
रथ चढ़ाय गोपाल ले गयो हाथ मींजत रही॥

कठिन छाती स्याम बिछड़त बिरहतें तन तई।
दासि मीरा लाल गिरधर बिखर क्यूं ना गई॥

शब्दार्थ :- बैरण = बैरिन, बाधा पहुंचाने वाली। नई = रथ जोत कर। तन तई =देह जल गई