भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सच्चा यौवन / अनिरुद्ध प्रसाद विमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

काल सर्प सा
धनुष डोरी पर
जो नित क्षण-क्षण
है चढ़ जाता।
यौवन उसका ही यौवन है
जो नहीं मरन से है डरता।
शब्द-शब्द में अग्निवाण सा
जो जोश लिए है बढ़ता।
यौवन सच में वह यौवन
जो तलवारों पर चलता।
मिट्टी मांग रही है यारो
तुमसे फिर कुरवानी।
जो मिट्टी की मांग सुने
सच में वही जवानी।