भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सच कहता हूं मेरी तकलीफ़ यही है / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सच कहता हूं मेरी तकलीफ़ यही है।
जिस वजह से आज मैंने ग़ज़ल कही है।

वहां तो लग रहे हैं शौक़िया निशाने,
यहां क़दम-क़दम पर सांस सिहर रही है।

आदिम सुविधाओं के नक्शे फैल रहे हैं,
तिल-तिल कर बटोरी आग बिखर रही है।

हवा तक का रूख बदलने वाली ताक़त,
नीले रंग में सकून तलाश रही है।
   
जिन सूखे होठों के लिए की तपस्या,
वहां पहुंचे बिना ही गंगा मुड रही है।