भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सच / हरीश करमचंदाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सच का साथ देने
और सच का सामना करने में फर्क था
साथ देना खतरे उठाना था
बहुतकुछ गवाना था
और सच का सामना करना
कुछ कुछ गवाना था
बदले में बहुत कुछ पाना भी था
एक की कीमत बाज़ार में कुछ न थी
दूसरा खुद बाज़ार था