भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

सजधज आयी आ रात छिनाळ / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सजधज आयी आ रात छिनाळ
म्हैं जाणू ईं री जात छिनाळ

रात भर सागै राखै भोर में
सूरज रै मारै लात छिनाळ

बळती बाजै का मुधरी पून
आ करै नित नुंवी घात छिनाळ

मुळकै-बतळावै पड़दो करै
इण री तो है हर बात छिनाळ

भरी पंचायत इत्तो कह उठी
कूड़ा है फेरा सात छिनाळ