भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सजन की ख़ुर्दसाली पर ख़ुदा नाज़िर ख़ुदा हाफ़िज़ / वली दक्कनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सजन की ख़ुर्दसाली पर ख़ुदा नाज़िर ख़ुदा हाफ़िज़
रक़ीबाँ की मलामत सूँ मुहम्‍मद मुस्‍तफ़ा हाफ़िज़

सजन के हुस्‍न-ए-अफ़्ज़ूँ पर ख़ुदाया तू अमां करना
कि इस उम्‍मीद-ए-गुलशन पर अली मुर्तुज़ा हाफ़िज़

सजन के तेग़ अबरू सूँ शहादतगाह पाँवों में
मिरे इस क़त्‍ल होने पर शहीद-ए-कर्बला हाफ़िज़

सजन का मुख मुनव्‍वर, नूर आयत, फ़ाल मुस्हिफ़ है
कि अहल-ए-नामुरादाँ पर दुआ-ए-हलअता हाफ़िज़

'वली' ग़मगीं न हो ये भेद असरार-ए-इलाही है
कि तेरी दस्‍तगीरी पर निगाह-ए-दिलरुबा हाफ़िज़