भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सजन टुक नाज़ सूँ मुझ पास आ आहिस्ता आहिस्ता / वली दक्कनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सजन टुक नाज़ सूँ मुझ पास आ आहिस्ता आहिस्ता
छुपी बातें अपस दिल की सुना आहिस्ता आहिस्ता

ग़रज़ गोयाँ की बाताँ कूँ न ला ख़ातिर मनीं हरगिज़
सजन इस बात कूँ ख़ातिर में ला आहिस्ता आहिस्ता

हर इक की बात सुनने पर तवज्जो मत कर ऐ ज़ालिम
रक़ीबाँ इस सीं होवेंगे जुदा आहिस्ता आहिस्ता

मुबादा मोहतसिब बद-मस्त सुन कर तान में आवे
तम्बूरा आह का ऐ दिल बजा आहिस्ता आहिस्ता

‘वली’ हरगिज़ अपस के दिल कूँ सीने में न रख ग़मगीं
कि बर लावेगा मतलब कूँ ख़ुदा आहिस्ता आहिस्ता