भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सड़क / रतन सिंह ढिल्लों

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब से सड़क ने
गाँव में प्रवेश किया है
गाँव की हर शाम ने
उदासी का जाम पिया है ।
 
सड़क, जिस किसी की भी
बाँह पकड़ कर
शहर ले गई है
गाँव ने उस शख़्स को
फिर कभी देखा नहीं है ।
 
सड़क गाँव के माथे पर
बदनुमा ग़मगीन एहसास की
एक काली लकीर बन गई है ।
 
मूल पंजाबी से अनुवाद : अर्जुन निराला