भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सनम मेरा सुख़न सूँ आशना है / वली दक्कनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सनम मेरा सुख़न सूँ आशना है
मुझे फि़क्र-ए-सुख़न करना बजा है

चमन में वस्‍ल के हर जल्‍वए-यार
गुल-ए-रंगीं बहार-ए-मुदद्आ है

न बख्‍श़े क्‍यूँ तेरा ख़त जिंद़गानी
कि मौज-ए-चश्‍मए-आब-ए-बक़ा है

तग़ाफ़ुल ने तिरे ज़ख़्मी किया मुझ
तेरी ये कमनिगाही नीमचा है

नहीं वाँ आब, ग़ैर अज़ आब-ए-ख़ंजर
शहादत गाह-ए-आशिक़ कर्बला है

ग़नीमत बूझ मिलने कूँ 'वली' के
निगाह-ए-पाकबाज़ाँ कीमिया है