भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सन्देश मेरुदंड का / रित्सुको कवाबाता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: रित्सुको कवाबाता  » सन्देश मेरुदंड का

मेरे योग शिक्षक का सूत्र !
सीधे पेट के बल लेट
बाहें बांधे माथे पर
मैं घुमती हूँ दायें -बाएं !
मेरुदंड से आती झनकार
जब ये घुमती है फर्श पर !
बाहें बांधे छाती पर
मैं घुमती हूँ दायें -बाएं .
मुझे सचमुच महसूस होती है उपस्थिति
मेरुदंड की !

अनुवादक: मंजुला सक्सेना