भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सन्नाटे का घर / बिर्ख खड़का डुबर्सेली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भाई के गीले कपडे
बदला करती थी दीदी
दीदी के केश खींचकर
खेला करता था भाई
किलकारियां खिलती थीं
ठहाके बरसते थे
अब तो रो-रोकर हंसता है
सन्नाटे का घर !

चलती ट्रेन अटक गयी
झाँक कर देखो खिड़की से दूर-दूर तक चुपचाप
निर्दोष खुले हैं घर के आँगन
निर्मोल पड़े हैं आँगन के घर !
प्रसूता की व्यथा-भरी चाह से
पुरखों के पसीने की आह से
सजा-संवरा यह
वारदात की बात नहीं कह पाता
रो-रोकर हंसता है
सन्नाटे का घर !

राज अपना है
नीति भी अपनी है
हाथ अपने हैं
हथियार कहाँ से आये
नासमझ अबूझ सा
रो-रोकर हंसता है
सन्नाटे का घर !

मूल नेपाली से अनुवाद: कवि द्वारा स्वयं