भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सपना एकदम हरा / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कोख में बीज
सड़क के नहीं
मिट्टी के होता है
और वही थामती है पानी

जब बरसता है पानी
पीती है वह बूंद-बूंद
कोख में उसकी
जी उठते हैं सुप्त बीज

सूनी सपाट धरती पर
प्रत्यक्ष दिखता हैं
सांस लेता एक सपना
एकदम हरा !
 

अनुवाद : नीरज दइया