भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सपने-2 / सुरेश सेन नि‍शांत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उन्होंने नींद में चहचहाने वाली
उस छोटी-सी रंग-बिरगी चिड़िया के
पंखों को काट दिया

ज़हरीले धुएँ से भर दिया
उसकी आँखों का सारा आकाश

कहीं कोई ख़ून का छींटा नहीं गिरने दिया
नहीं गूँजने दी किसी घायल सपने की
हल्की-सी भी चीत्कार