भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सपने-4 / सुरेश सेन नि‍शांत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उन्होंने लोगों से कहा
तुम्हारे सपने तुम्हारी नींद में नहीं
बाज़ार में हैं
वहीं देखो खुली आँखों से
उन्हें मुस्कराते हुए

तुम्हारी देहरी तक आने को लालायित
किसी शो केस में सजे-धजे
तुम्हारे संग चलने को
खड़े हैं जैसे तैयार

थोड़े से पैसे खर्चो
भले ही ले लो किसी से उधार
पर करो उन्हें साकार

वे सपनों को बेचने का
करने लगे हैं कारोबार