भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सपने-5 / सुरेश सेन नि‍शांत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यह कैसी विडम्बना थी
अपने ख़रीदे हुए सपनों के संग
जीए जा रहे थे लोग ख़ुशी-ख़ुशी
एक बेचैनी में करवटें बदलते हुए

फिर भी आतताई थे चिंतित
कि कहीं दूर इसी धरती पर
किसी थके हुए आदमी की पसीने-भीगी नींद में
नित नए सपने ले रहे हैं जन्म
उनके लाख पहरों के बावजूद ।