भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सपनों का रखवाला / लैंग्स्टन ह्यूज़ / उज्ज्वल भट्टाचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपने सारे सपनों को
मेरे पास ले आओ,
ओ सपना देखने वालो !

मेरे पास ले आओ
दिल के सारे सुर

ताकि मैं उन्हें लपेट सकूँ
बादल के आसमानी कपड़े में

दुनिया की
खुरदरी उँगलियों से
कहीं दूर ...।

मूल अँग्रेज़ी से अनुवाद : उज्ज्वल भट्टाचार्य