भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

सपनों में दिखता है पुराना दोस्त / येव्गेनी येव्तुशेंको

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुझे सपनों में दिखता है पुराना दोस्‍त
जो दुश्‍मन है अब मेरा
दिखता है पर शत्रु रूप में नहीं
बल्कि उसी पुराने मित्र रूप में ।

अब वह मेरे साथ नहीं,
पर हाज़िर रहता है हर जगह।
बुरे सपनों के कारण
सिर चकराता है मेरा ।

मुझे सपनों में दिखता है पुराना दोस्‍त,
उपद्रव करता और मानता हुआ अपनी ग़लतियाँ ।
दिखता है उन दीवारों, उन सीढ़ियों पर
जहाँ शैतान की भी टूट सकती हैं टाँगें ।

दिखती है उसकी नफ़रत
मेरे लिए नहीं बल्कि उनके लिए
जो हम दोनों के दुश्‍मन थे कभी
ख़ुदा चाहे तो वे बने रहेंगे वे दुश्‍मन और अभी ।

मेरे सपनों में आता है पुराना दोस्‍त
आता है जैसे कभी लौट न आने वाला प्रेम,
ख़तरे मोल लेते रहे हम दोनों
उलझते रहे हर तरह के लड़ाई-झगड़ों में ।

अब दुश्‍मन हैं हम एक दूसरे के
पर कभी हम धर्म भाई थे
मेरे सपनों में आता है पुराना दोस्‍त
जैसे सैनिकों के सपनों में झण्‍डों की फड़फड़ाहट ।

उसके बिना मैं -- मैं नहीं
न वह -- वह है मेरे बिना,
आज यदि हम दुश्‍मन हैं एक दूसरे के
तो इसलिए भी कि ये दिन भी तो वे दिन नहीं ।

मेरे सपनों में आता है पुराना दोस्‍त
वह वैसा ही मूर्ख है जैसा मैं,
ज़रूरत नहीं यह बताने की
कौन ग़लत है और कौन सही ।

नए दोस्‍त भी क्‍या दोस्‍त ?
उनसे अच्‍छा तो पुराना दुश्‍मन है ।
दुश्‍मन तो नया भी हो सकता है
पर दोस्‍त जब भी होता है
होता है पुराना ।