भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सपनो मूंगोछम / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कूख में बीज
सड़कां रै नीं
माटी रै हुवै
अर बा ई झेलै पाणी

बरसै जद पाणी
बा बूंद-बूंद पीवै
बींरी कूख में सूता बीज जीवै

सूनी-सपाट धरती माथै
परतख सांस लेवतो दीसै
ऐक सपनो मूंगोछम