भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

सफ़र कर न सका / इक़बाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


ढूँढने वाला सितारों की गुज़रगाहों का
अपने अफ़कार[1] की दुनिया में सफ़र कर न सका

अपनी हिकमत[2] के ख़मो-पेच[3] में उलझा ऐसे
आज तक फ़ैसला-ए-नफा-ओ-ज़रर[4]कर न सका

जिसने सूरज की शुआओं[5] को गिरफ़्तार किया
ज़िन्दगी की शबे-तारीक[6]सहन कर न सका

शब्दार्थ
  1. फ़िक्र का बहुवचन/चिंताएँ
  2. दुस्साहस
  3. उलझनों
  4. लाभ-हानि का निर्णय
  5. किरणों
  6. अँधेरी रात