भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सब्र करो / रवीन्द्र दास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरे दिमाग में भरा हुआ है बहुत सारा गुस्सा
रिसता रहता है जो अन्दर ही अन्दर
असहाय और एकांत।
लेकिन नहीं जाने दूंगा बेकार
अपने गुस्से को,
बदल दूंगा इसे शब्दों में -
मैं तुम्हें शब्द दूंगा
और दूंगा आवाज़, ताकि जलन कम हो
तुम्हारी आँखों की
अपने ही कंठ से बोलो तुम
अपनी बात, चाहो तो मेरे साथ-साथ
लगाओ आवाज़ -
मान लो कि सीखना है अभी बाकी
इसके साथ, मान लो यह भी,
कि होना है बाकी अभी सब कुछ
वह जो दीख पड़ता है -
हुआ हुआ सा,
वह है किसी और के हिस्से का
धीरे धीरे खोलो -
अपनी आँखें,
अपना मन, अपनी इच्छा, अपना...
मत छलकने दो -
गुस्सा।
आवाज़ में बदलने तक सब्र करो।