भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सब्र मुश्किल था मोहब्बत का असर होने तक / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सब्र मुश्किल था मोहब्बत का असर होने तक
जान ठहरी न दिल-ए-दोस्त में घर होने तक

शब-ए-फ़ुर्क़त की भी होने को सहर तो होगी
हाँ मगर हम नहीं होने के सहर होने तक

सहने हैं जौर-ओ-सितम झेलने हैं रंज-ओ-अलम
या'नी करनी है बसर उम्र बसर होने तक

तेरा पर्दा भी उठा देगी मिरी रुस्वाई
तेरा पर्दा है मिरे ख़ाक-ब-सर होने तक

मुतज़लज़ल तो है मुद्दत से निज़ाम-ए-आलम
नौबत आ पहुँची है अब ज़ेर-ओ-ज़बर होने तक

फ़ुर्सत-ए-मातम-ए-परवाना कहाँ से आए
शम्अ' को मौत से लड़ना है सहर होने तक

ऐ 'वफ़ा' मा'रका-ए-इश्क़ तो सर क्या होगा
हो चुकेंगे हमीं ये मा'रका सर होने तक।