भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सब अपनों पर / हरीश भादानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सब अपनों पर
मुट्ठी भर-भर
विस्मृतियों की राख फेंकता जाऊँ !
सब अपनों पर
संक्रामक स्याही में
डुबो-डुबो
दूरी की कलम फेरता जाऊँ !
यूँ तो
सब अपनों के
अपनापे का घोल तरल है,
आकर्षक है
पर सब
बँटे सभी के लिये प्रश्न है केवल
उत्तर अभी नहीं जन्मा है,
मौसम बेमौसम की हवा-
हवा की हल्की सी टकराहट-
बदरंग देती है-
अपनापे को घोल
घोल में घुले हुओं की
अलगाती अस्तित्व,
सभी बेरूप
नुकीले
तीखे-तीखे चुभने वाले !
ऐसे सब अपनों पर
मुट्ठी भर-भर
विस्मृतियों की राख उड़ाता जाऊँ !
ऐसे सब अपनों को
उनके बौनेपन की,
कुबड़े हुए अहम् की,
कुँठा की
बदनामी देता जाऊँ !