भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सब ख़त्म हो गया / अलेक्सान्दर पूश्किन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: अलेक्सान्दर ब्लोक  » संग्रह: यह आवाज़ कभी सुनी क्या तुमने
»  सब ख़त्म हो गया

ओदेस्साई कन्या अमालिया रीज़निच के लिए

सब ख़त्म हो गया अब हममें कोई सम्बन्ध नहीं है
हम दोनों के बीच प्रेम का अब कोई बन्ध नहीं है
अन्तिम बार तुझे बाहों में लेकर मैंने गाए गीत
तेरी बातें सुनकर लगा ऎसा, ज्यों सुना उदास संगीत ।
 
अब ख़ुद को न दूँगा धोखा, यह तय कर लिया मैंने
डूब वियोग में न करूँगा पीछे तय कर लिया मैंने
गुज़र गया जो भूल जाऊँगा, तय कर लिया है मैंने
पर तुझे न भूल पाऊँगा, यह तय किया समय ने
 
शायद प्रेम अभी मेरा चुका नहीं है, ख़त्म नहीं हुआ है
सुन्दर है, आत्मीय है तू, प्रिया मेरी अभी बहुत युवा है
अभी इस जीवन में तुझ से न जाने कितने प्रेम करेंगे
जाने कितने अभी मर मिटेंगे और तुझे देख आहें भरेंगे ।

मूल रूसी भाषा से अनुवाद : अनिल जनविजय