भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सभा-सम्मेलनों में / अहमेद फ़ौआद नेग़्म / राजेश चन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्रान्तिकारी, जिप्सी,
बकवादी
गिरहकट, झपटमार

मिल कर बैठा करते हैं
सभा-सम्मेलनों में
चॉकलेट बार और मिठाइयाँ
चुभलाते हुए ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : राजेश चन्द्र