भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

समदन / अंगिका

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

बांसवा कटैतेॅ मैया हे संझौती न बीतलौं हे
मैया हे संझौती न बीतलौं हे मैया हे डोलिया रे सजाइतेॅ
भोर भीनसरेॅ रे कमरूआराज मैया कखनी न जाइवेॅ हे।
नहैतेॅ सोनैतेॅ मैया हे संझौती न बितलौ हे
मैया हे संझौती न बीतलौं हे मैया हे जुटवा रे सुखइतेॅ
भोर-भीनसरेॅ रे कमरूआ राज मैया कखनी न जाइवे हे।
चुनरी पहनतेॅ मैया हे संझौती न बीतलौं हे।
मैया हे जुटवा रे बन्धइतेॅ भोर भीनसरेॅ रे कमरूआ राज
मैया कखनी न जाइवेॅ हे।
पैरवा रंगइतेॅ मैया हे संझौती न बीतलौं हे...2
मैया हे नखवा रे रंगइतेॅ भोर-भीनसरेॅ रे कमरूआ राज
मैया कखनी न जाइवे हे।
गहना पहनतेॅ मैया हे संझौती न बीतलौं हे
मैया हे संझौती न बीतलौं हे।
मैया हे रूपवा रे सजैइतेॅ भोर-भीनसरेॅ रे कमरूआ राज
मैया कखनी न जाइवे हे।
कानतेॅ-खीजतेॅ मैया हे संझौती न बीतलौं हे।
मैया हे संझौती न बीतलौं हे मैया हे मिलतेॅ रे जुलतेॅ
भोर-भीनसरेॅ रे कमरूआ राज मैया कखनी न जाइवे हे।