भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

समय-2 / दुष्यन्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

समय की रेतघड़ी में
मोह की बारिश खो गई कहीं

हर घर में पसर गया मौन
छा गया अंधेरा

मेरा राम तुम्हारा रहीम
दोनों गुनहगार हो गए।

 
मूल राजस्थानी से अनुवाद- मदन गोपाल लढ़ा