भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

समय आ गया है जगह ढूँढ़ने का / यूनीस डिसूजा / ममता जोशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

समय आ गया है जगह ढूँढ़ने का
एक दूसरे से
सम्वादविहीन रहने का

बहुत बकबक की है मैंने
स्टाफ़ रूम, गलियारों और रेस्तरांओं में
जब तुम पास नहीं होते
मैं मन ही मन बहुत बातें करतीं हूँ

इस कविता में भी
ज़रूरत से ज़्यादा हैं
ये अड़तालिस लफ़्ज़ ।

मूल अँग्रेज़ी से अनुवाद : ममता जोशी