भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

समय साहित्य सम्मेलन, पुनसिया, बाँका, बिहार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

11 अक्तूबर 2017 को समय साहित्य सम्मेलन, पुनसिया, बाँका, बिहार में दीवाली के पूर्व कविता कोश के तत्वावधान में पर्यावरण संरक्षण एवं स्वच्छता विषय पर गोष्ठी और काव्य पाठ हुआ। कार्यक्रम की अध्यक्षता श्री अनिरुद्ध प्रसाद विमल और संचालन राहुल शिवाय ने किया। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि श्री धनन्जय मिश्र थे।

कार्यक्रम का प्रारंभ स्वच्छता और पर्यावरण की शपथ से हुआ। सभा को संबोधित करते हुए श्री राजकिशोर शुक्ल ने कहा कि दीवाली खुशियाँ बाँटने के लिए मनाएँ, इसे प्रदूषण का कारण नहीं बनने दें।

Samay-sahitya-sammelan-punsiya-bihar.jpg

कवि श्री कुमार संभव ने उपस्थित बच्चों से कहा-

झाडो घोॅर-दुवार के, स्वच्छ करोॅ परिवेश
दीवाली के मानिहोॅ, 'संभव' ई संदेश

कवि राहुल शिवाय ने कहा-

पैतै हो केना कहोॅ, अगला पीढ़ी फूल
मनुख विकासोॅ के लली, रोपै रोज बबूल

मुख्य अतिथि श्री धनंजय मिश्र ने कहा-

पर्यावरण से दूर कत्ते भेॅ गेलोॅ छै आदमी
आदमी रोॅ भीड़ में हेराय गेलोॅ छै आदमी

अनिरुद्ध प्रसाद विमल ने कहा- रोॅ गाछ-वृक्ष मानुख लली, कुदरत के उपहार
अकरा काटी केॅ मनुख, लै रोजे हपकार

कार्यक्रम में राकेश कुमार, संटू कुमार सहित चंगेरी मिर्जापुर के बच्चे उपस्थित थे। धन्यवाद ज्ञापन कुमार संभव ने किया।