भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

समय / रोज़ा आउसलेण्डर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

समय
है मेरा मित्र
मेरा शत्रु
खाती हूँ मैं मधुर फल इसका
करती हूँ मैं सुरभिपान इसका ।

हर समय
हैं मेरा समय
विस्मय ।।

मूल जर्मन भाषा से प्रतिभा उपाध्याय द्वारा अनूदित