भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

समवेत गायन / रित्सुको कवाबाता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: रित्सुको कवाबाता  » समवेत गायन

हम गा रहे हैं भजन संख्या ३१२
मैं हूँ विद्यार्थी
छोटा भाई है शिक्षक हमारा !
हाल ही में संगीत अकादमी से स्नातक ,
वह प्रोत्साहित करता है हमें अलापने को स्वर
स्वर और ऊंचे उठने दो !
मेरी मर्दानी आवाज़ आज सुर में है
कितना दक्ष निर्देशक !
कैसे चौकन्ने कान !
तुरंत पकड़ लेता है हर स्वर को संगति में चार की .
गाते हुए बार - बार
मैं बन जाती हूँ निपुण पेशेवर गायन में
पूरी तरह जोशीली
हा ले लुजः ....!

अनुवादक: मंजुला सक्सेना