भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

समुद्र और आदमी / आन्ना स्विरषिन्स्का / सिद्धेश्वर सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

समुद्र को तुम नहीं कर सकते वश में
चाहे फुसला कर
या फिर ख़ुश होकर।
लेकिन तुम हंस तो सकते ही हो
उसकी शक़्ल पर ।

हंसी एक चीज़ है
उनके द्वारा खोजी गई
जिन्होंने एक लघु जीवन जिया
हंसी के उफान की तरह ।

यह अनन्त समुद्र
कभी नहीं सीख पाएगा
हंसना ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : सिद्धेश्वर सिंह