भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

समुद्र का गीत / रैनेर मरिया रिल्के

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

युगों पुरानी समुद्र की तरफ से आती साँस
रात में
समुद्री हवा
तुम किसी की तलाश में नहीं

जो भी जगता है उसे
अपना रास्ता स्वयं चुनना होगा
तुमसे ज़्यादा समय तक टिक रहने के लिए
समुद्र से आती युगों पुरानी सांस
मानो पुरातन शिलाओं के लिए ही मात्र बहती हुई
शुद्धता भरे आकाश को दूर-दराज में चीर कर
प्रविष्ट होती हुई...

ओ चाँद की रोशनी में ऊँचे खड़े
किसी मुकुलित अंजीर वृक्ष के द्वारा तुम किस कदर संवेगित ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : इला कुमार