भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

समुद्र तट पर / डोरिस कारेवा / तेजी ग्रोवर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं
समुद्र तट पर
चलती रही
बहुत देर तक,
ज़मीन से
कुछ-न-कुछ उठाती हुई ।

घर आकर
मैंने झोले को
ख़ाली किया :

ग्यारह कंकर
और एक कविता
पक्षी-बिष्ठा में
सनी हुई ।


अँग्रेज़ी से अनुवाद : तेजी ग्रोवर