भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

समुन्दर: पांच / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

समुन्दर
तुम अज़ल से गुनगुनाते जा रहे हो
मैं अज़ल से सुन रहा हूँ
एक ही नग्मा
एक सी ही बहार
लफ्ज़ भी वैसे के वैसे
आहंग का मद्दों जज़र तो वो नहीं है
जो अभी था
फिर ये कैसे हो कि
तुम अज़ल से गुनगुनाते
एक ही लय में
एक ही नग्मा
और अगर हो भी तो क्या
एक ही लय में
मुख्तलिफ़ नग्मों की है तख्लीक़ मुमकिन
एक ही नग्मा
अनगिनत आहंग में भी गुनगुना सकते हो तुम तो
अज़ उफ़क़ ता उफ़क़
फैली
एक समाअत सोचती है
क्या अज़ल से गुनगुनाये जा रहे हो
ये बताओ