भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

समुन्दर : एक / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुन्तशिर[1] हो कर भी
तुम
कितने मुनज्ज़म[2]
मलगजी माहौल में
कितने मुनव्वर[3]
मुख्तलिफ़[4]सम्तों में चलते
अपनी जानिब
मुज़्तरिब[5]रक़्साँ[6] करते हुए रवाँ[7]
तुम
फिर भी जामिद[8]
करते जाते
आप अपने से
तसादुम[9]
इक तलातुम[10]
और इक अज़ली तरन्नुम[11]

शब्दार्थ
  1. उद्दिग्न
  2. संघटित
  3. दीप्त
  4. विभिन्न
  5. बेचैन
  6. नृत्य
  7. प्रवाहित
  8. जड़
  9. संघर्ष
  10. प्रचंड लहरें
  11. आदि संगीत