भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सम्पर्क टूटा नहीं... / लीना मल्होत्रा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 वो सब बातें अनकही रह गई हैं
जो मैं तुमसे और तुम मुझसे कहना चाहती थीं
हम भूल गए थे
जब आँखे बात करती हैं
शब्द सहम कर खड़े रहते हैं

रात की छलनी से छन के निकले थे जो पल
वे सब मौन ही थे
उन भटकी हुई दिशाओं में
तुम्हारी मुस्कराहटो से भरी नज़रों ने जो चाँदनी की चादर बिछाई थी
अंजुरी भर-भर पी लिए थे नेत्रों ने लग्न-मन्त्र
याद है मुझे

अब भी मेरी सुबह जब ख़ुशगवार होती है
मै जानता हूँ ये बेवज़ह नहीं
तुम अपनी जुदा राह पर
मुझे याद कर रही हो