भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सम्बन्ध / महेंद्रसिंह जाडेजा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सड़े हुए
मरे हुए
मरी हुई गंधाती मछलियों जैसे
मकड़ी के जाले जैसे
मगर की चमड़ी जैसे
सड़े हुए
फोड़े पर जमी पपड़ी जैसे
सूखे हुए

पीड़ित होते
बिलखते
तड़पते
अंधी दीवार
बिना स्पर्श के
बिना गंध के
बिना रूप के
बिना रंग के

खाली खटार
कटे हुए
टूटे हुए
भग्न हुए
बिना जड़ के
उखड़े हुए
मरे हुए
ज़ंग लगे
ठिठुरे हुए
छेद वाले

दीवार जैसे
खंडहर जैसे
स्वादहीन
बिना संवेदना के
बिना लगाव के
पत्थर जैसे
संबंध ।

परिचय की छेनी
अब कोई शिल्प नहीं रच सकती ।

मूल गुजराती भाषा से अनुवाद : क्रान्ति