भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सरहद के सिपाही / शिवनारायण जौहरी 'विमल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

निशा सुंदरी रजनी बाला
तिमिरांगन की अद्भुत हाला

हीरक हारों से भरा थाल ल्रे
कहाँ चलीं जातीं हर रात
और बेच कर हार रुपहले
सुबह लौटती खाली हाथ
 
पूरा थाल खरीदा मेंने
चलो आज तुम मेरे साथ
उस सरहद पर जहाँ पराक्रम
दिखा रहा है अपने हाथ

बना भीम सरहद का रक्षक
रिपु की गरदन तोड़ रहा है
पहना दो सब हार उसी को
भारत जय-जय बोल रहा है॥