भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सराय / मुइसेर येनिया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आज की रात
यहाँ नृत्य होना चाहिए
शब्दों का

- इस कारवाँ सराय में
तुम्हारे सम्मान में -

आज की रात मैं आनन्दित हूँ
घास की तरह
जिसने सूरज देख लिया हो

और अपने स्वप्न के अस्तित्व के साथ परिपूर्ण ।