भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सरिता / एल्युआर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरी जीभ के नीचे
बहती है सरिता

जल...
जिसकी
कल्पना भी नहीं करते हम

मेरी
छोटी-सी नाव
और गिरे हुए परदे

चलो बात करें

मूल फ़्रांसिसी से अनुवाद : हेमन्त जोशी