भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सरे राह, घरों, गलियों दरबार में / सुदेश कुमार मेहर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सरे राह, घरों, गलियों दरबार में
हर गाम लुटी मैं इस संसार में

कुछ बात हुआ करती थी बात में
वो बात कहाँ है अब तलवार में

कुछ चीर रही आँखे कुछ तौलतीं,
हर वक़्त बदन हूँ मैं बाज़ार में

पहचान उभारो-ख़म ही तो नहीं,
कुछ और पढो मेरे किरदार में

कल रात चली सरहद पे गोलियां,
माँ ढूंढ रही किसको अखबार में