भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सर्दियों में होती हूँ कोई जानवर / वेरा पावलोवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सर्दियों में
होती हूँ कोई जानवर,

एक बिरवा
बसंत में,

गर्मियों में
पतंगा,

तो परिंदा
होती हूँ पतझड़ में.

हाँ औरत भी होती हूँ बाक़ी के वक़्त में ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : मनोज पटेल