भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सवेरा हो रहा है / शिवनारायण जौहरी 'विमल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उठो मेरे लाल
जगो मेरे प्राण
आंखेँ खोल कर देखो
समय कैसे करबट बदलता है
यामिनी के सभी शृंगार
फीके पड गए हैं

ऊषा सुंदरी दौड कर
आज़ाद करा लाई है
बाल रवि को
निशा कि क़ैद से
क्षितिज पर बैठा दिया है
चलो खेलें उसी के साथ

कोई दस्तक दे रहा है द्वार पर
उजेला छत से उतर कर
आगया आंगन मैं
मलियानिल बैठ खिडकी पर
प्रभाती गा रही है
पत्तियाँ झूम, ने लगी है
फूल कर रहे हैं
प्रक्रर्ति के श्रगार का स्वागत
गाय का बछड़ा ब्याकुल है
दूध पीने के लिए

घ्ंटे घड़ियाल बजने लगे
देवों को जगाया जा रहा है
तुम भी जगो मेरे लाल
सबेरा हो रहा है॥