भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सहज / जय गोस्वामी / रामशंकर द्विवेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

याद आना
कितना सहज है —
और भूलना
कितना कठिन !
००

ऐसा क्यों कह रहा हूँ ?
मेरे भीतर जो
बार - बार नए रूप में
जीवित हो उठती है रोज़
उसे साथ-साथ
बने रहना प्रतिदिन ?

असम्भव रूप से
है कठिन,
सचमुच में कठिन...

मूल बाँगला भाषा से अनुवाद : रामशंकर द्विवेदी